Rakesh Kumar r.k.k

*”जिन्दा” जिस्म की कोई “अहमियत” नहीं …*

*”मजार” बन जाने दो, “मेले” लगा करेंगे … !!!*

Advertisements