Rakesh Kumar r.k.k

जब से “देखा” है…वो एक “चेहरा” तब से हम “घायल” हो गये…..❤
:
“मोहब्बत” से जब…मोहब्बत “मिली”…हम “शायर” हो गये….💕”दिल” टूटा है मेरा
और “ख्वाब” बिखर गये•••”दर्द” मिला “इश्क” मे इतना कि
“जख्मो” से हम “निखर” गये•••💔मुझे अपने किरदार पे इतना तो यकीन है की, कोई मुझे छोड़ सकता है लेकिन भूल नही सकता…!!❤रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है;
ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है;
हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू;
ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है।
❤दिल से…शहर के हर शख्स ने वसीयत में शराफ़त पाई है।**हैरान हूँ मैं सोचकर फिर बेईमानी कहां से आई है।*

Advertisements

Author: Rakesh Kumar rkk

_😊मै *😕मतलबी* ❌नही जो 🤝चाहने वालो को *😡धोका दू...........*_ _*↬ⓐ৳」ⓐ∽↫*_ _☝🏻बस, 😊मुझे *🔆समझना 👉हर* किसी के ✊बस की *बात ❌नही है............*_ _

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s